Head and shoulders Pattern (सिर और कंधे का पैटर्न) Full Details in Hindi

सिर और कंधे का पैटर्न Head and shoulders Pattern दोस्तों आप स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करना सीखना चाहते हैं तो आपको ट्रेडिंग के चार्ट पेटर्न, प्राइस एक्शन, टेक्निकल एनालिसिस इसे सिखाना बहुत जरूरी है वैसे आपने सुना होगा हिस्ट्री अपने आप को दोहराती है यानी कि जो मार्केट में एक बार हुआ है |

वह दोबारा जरूर होगा इसलिए सभी कहते हैं कि स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करना पेचीदा काम है पर मैं आपको बताना चाहूंगा अगर आप प्राइस एक्शन को अच्छे से सीख लेते हैं तो इंस्ट्रूमेंट्स, स्टॉक, फ्यूचर्स, कमोडिटीज या इंडेक्स इन सभी के चार्ट प्राइस एक्शन को ही फॉलो करते हैं और जो पैटर्न एक बार बनता है उसे यह सभी दोबारा दोहराते रहते हैं |

दोस्तों आज इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं हेड एंड शोल्डर पैटर्न (Head and Shoulders Pattern) के बारे में दोस्तों अगर आपने इस पैटर्न को अच्छे से समझ लिया और जान लिया और इस पैटर्न पर अपने प्रैक्टिस कर ली तो आप स्टॉक मार्केट में बहुत बड़ा प्रॉफिट कमा सकते हैं |

head and shoulders pattern new

दोस्तों इस पोस्ट में मैं आपको हेड एंड शोल्डर पैटर्न को लाइव मार्केट में कैसे आईडेंटिफाई करना है वह बताऊंगा और इसके साथ ही आपको हेड एंड शोल्डर पैटर्न में ट्रेड कब लेना है उसके बारे में जानकारी दूंगा और साथ ही साथ मैं आपको हेड एंड शोल्डर पैटर्न में स्टॉप लॉस कहां लगाए टारगेट कितना ले इसके बारे में पूरी जानकारी दूंगा तो इस पोस्ट को अंत तक ध्यान लगाकर जरूर पढ़ना |

Head and Shoulders Pattern Kya Hai

दोस्तों सबसे पहले हम जानते हैं हेड एंड शोल्डर पैटर्न होता क्या है तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं दोस्तों यह एक इंसान को देखकर बनाया गया पैटर्न है जिसमें इंसान का सिर (Head) ऊपर होता है और इंसान के सिर के नीचे लेफ्ट और राइट में कंधे (Shoulders) होते हैं ठीक इसी प्रकार की आकृति आपको स्टॉक मार्केट के चार्ट में लाइव बनती हुई दिखाई देगी हम उसे हेड एंड शोल्डर पैटर्न कहते हैं |

स्टॉक मार्केट में जब कोई भी शेयर सपोर्ट लेवल का सपोर्ट लेकर ऊपर की तरफ तीन चोटी बनाते हैं जिसमें से बीच वाली चोटी सबसे ऊंची होती है बीच वाली चोटी के लेफ्ट और राइट की चोटियां एक समान लेवल पर या थोड़ी ऊपर नीचे हो सकती है उसे हम सिर और कंधे का पैटर्न कहते हैं |

Head and shoulders Pattern

यह एक विश्वास लायक ट्रेंड रिवर्सल पैटर्न है यह पैटर्न स्टॉक मार्केट के चार्ट में तब बनता है जब शेयर का प्राइस उच्च स्तर पर होता है इस पैटर्न में इतनी ताकत होती है यह शेयर के ट्रेंड को चेंज कर सकता है अगर यह Uptrend ट्रेंड में बनता है तो इसके बाद मार्केट या शेयर का ट्रेंड चेंज कर सकता है |

दोस्तों यह पैटर्न मार्केट में UPTREND ट्रेंड में बनता है जब मार्केट Higher High लगाते हुए ऊपर की तरफ जाती है तब मार्केट में बिल्कुल ऊपर लेवल पर जाकर यह पैटर्न बनता है उसके बाद मार्केट में ट्रेंड चेंज हो जाता है यह पैटर्न बनने से पहले मार्केट Uptrend में होती है और इस पैटर्न के बनने के बाद मार्केट का ट्रेंड चेंज होकर डाउन ट्रेंड हो जाता है इसलिए इस ट्रेंड रिवर्स पैटर्न भी बोल देते हैं Consolidation Chart Pattern Kya Hai

Inverted Head and Shoulders Pattern (रिवर्स हेड एंड शोल्डर्स पैटर्न) Kya Hai

दोस्तों यह पैटर्न मार्केट में दो प्रकार से बनता है इनको कई नाम से जाना जाता है इनवर्टेड हेड और शोल्डर पैटर्न, इनवर्स हेड और शोल्डर पैटर्न, रिवर्स हेड एंड शोल्डर्स पैटर्न इन सभी का मतलब एक ही होता है Uptrend में बनने वाले पैटर्न के बारे में हमने आपके ऊपर बता दिया है जिसमें मार्केट Up ट्रेड में होती है और यह पैटर्न बनने के बाद मार्केट डाउन ट्रेंड में आ जाती है |

इन्वर्टेड हेड एंड सोल्डर कैंडलस्टिक पैटर्न अब हम बात करते हैं इसके दूसरे पैटर्न के बारे में जी हां दोस्तों यह पैटर्न ठीक उसी प्रकार से ही काम करता है पर इसकी सैप देखने में उल्टी लगती है क्योंकि यह DOWNTREND में बनता है और इसके बाद मार्केट पलट जाती है और मार्केट डाउन ट्रेंड से UP ट्रेंड में चली जाती है |

Inverse Head and Shoulders Pattern

जब मार्केट डाउन ट्रेंड में होती है और Lower Low लगाते हुए नीचे आ रही होती है तब मार्केट रेजिडेंस लेवल का सपोर्ट लेकर नीचे की तरफ तीन चोटी बनती है जिनमें से बीच वाली चोटी सबसे बड़ी होती है और लेफ्ट और राइट की दोनों चोटिया एक समान होती है उसके बाद मार्केट अपने रेजिडेंस लेवल को तोड़कर ऊपर की तरफ भाग जाती है |

Head and shoulders Pattern live on chart

यहां पर आपके लिए ध्यान देने योग्य बात यह है कि हेड और शोल्डर (सिर और कंधे का पैटर्न) की सैप ऊपर से नीचे यानी उल्टी हो सकती है अगर शोल्डर लेफ्ट और राइट साइड के ऊपर नीचे होते हैं तो आपको वहां पर ट्रेंडलाइन लगा लेनी है ट्रेंडलाइन लगाकर भी आप इसे पहचान सकते हैं पर आपको यहां पर बीच वाली चोटी पर ध्यान देना है वह इन दोनों से बड़ी होनी चाहिए |

हेड एंड शोल्डर चार्ट पैटर्न कैसे काम करता है

शेयर बाजार में यह पैटर्न तब बनता है जब किसी शेर की कीमत बहुत ज्यादा उच्चसत्र पर पहुंच जाती है उसके बाद मार्केट प्राइस करेक्सन लेती है और थोड़ा नीचे आती है इसके बाद मार्केट Neckeline लाइन का सपोर्ट लेकर पहले वाले Higher High हायर हाई से अबकी बार बड़ा Higher High हायर हाई लगती है |

जिससे इसकी बीच की चोटी बनती है इसके बाद फिर मार्केट करेक्सन लेती है अब दोबारा से जैसे मार्केट ऊपर जाती है तब मार्केट Higher High हायर हायर न लगाकर Lower Low लोअर लो लगा देती है तब जाकर मार्केट में यह पैटर्न बनता है अब आपके यहां Neck लाइन पर ध्यान देना होगा जैसे ही नेकलाइन का Berckout होता है तब आपको अलर्ट हो जाना है Neckline लाइन का Retest होने पर आपको एक Bearish Candle को देखते हुए अपनी ट्रेड मार्केट में लेनी है और वहां से अच्छा प्रॉफिट निकालना है | Support and Resistance kya hota hai

Head and Shoulders Pattern की पहचान कैसे करें?

दोस्तों आप शेयर बाजार में इंट्राडे ट्रेडिंग या स्विंग ट्रेडिंग करते हैं तो आपको प्राइस एक्शन सिखाना बहुत जरूरी है और इसके साथ ही टेक्निकल एनालिसिस भी आपको आना चाहिए क्योंकि इसे हमें चार्ट को पढ़कर यह पता लगता है की मार्केट आगे क्या करने वाली है या फिर मार्केट में आगे क्या होने वाला है |

दोस्तों सिर और कंधे का पैटर्न को पहचानने के लिए आपको शेयर बाजार में उस शेयर को आईडेंटिफाई करना है जिसका प्राइस उच्चसत्र पर हो (ऑल टाइम हाई हो) क्योंकि उसके बाद मार्केट Price करेक्सन लेकर नीचे आएगी और एक नेक लाइन बनाएगी

अब उस नेक लाइन का सहारा लेकर मार्केट दोबारा से एक हायर हाई लगाएगी और उसके बाद तीसरी बार हायर हाई लगाने में फेल हो जाएगी वहां पर Lower Low लगा देगी इस प्रकार से मार्केट के चार्ट में आपको तीन चोटी दिखाई देगी जिसमें से बीच वाली चोटी सबसे ऊपर होगी लेफ्ट और राइट वाली छोटी एक समान हो सकती है या फिर थोड़ा ऊपर नीचे हो सकती है |

जैसा मैंने आपके ऊपर पिक्चर में समझाया है बीच वाली चोटी को सिर और लेफ्ट और राइट वाली चोटी को राइट शोल्डर और लेफ्ट वाली चोटी को लेफ्ट शोल्डर देखकर हम समझ जाते हैं कि यह सिर और सोल्डर पैटर्न बन गया है |

Head and Shoulders Pattern के निर्माण के पीछे कि सायकोलॉजी

शेयर बाजार में आप हर ट्रेडर की माइंड साइकोलॉजी को पढ़ सकते हो क्योंकि जैसा ट्रेडर का दिमाग सोचता है मार्केट का चार्ट ठीक वैसा ही बिहेव करता है दोस्तों मार्केट में जितने भी चार्ट पेटर्न बनते हैं इन सभी में ट्रेडर तथा निवेशक की माइंड साइकोलॉजी ही काम करती है |

शेयर बाजार में जब किसी कंपनी के शेयर की कीमत ऑल टाइम हाई पर चली जाती है तब ट्रेडर तथा निवेशक को यह लगता है कि इस कंपनी के शेयर की कीमत ओवर वैल्यूड हो चुकी है उनको लगने लग जाता है कि अब मार्केट कभी भी नीचे आ सकती है इसलिए वह मार्केट में बेचना शुरू कर देते हैं और अपना-अपना प्रॉफिट निकलने लग जाते हैं |

बहुत सारे ऐसे ट्रेडर हैं जिन्होंने इस कंपनी के शेयर को नहीं खरीदा था और सोच रहे थे की मार्केट थोड़ी नीचे आएगी तो हम खरीदेंगे जैसे ही बड़े निवेशक अपना प्रॉफिट निकलते हैं तो मार्केट थोड़ा नीचे आती है अब वहां पर नए Buyers मार्केट में खरीद लेते हैं |

जिस वजह से मार्केट पिछले रेजिस्टेंस को ब्रेक कर देती है एक और हायर हाय लगा देती है अब जो मार्केट में नए Buyers आए थे उन्हें अपना प्रॉफिट निकलना होता है इसलिए वह हायर हाई लेवल पर जाकर अपना प्रॉफिट बुकिंग करने लगते हैं जिस वजह से मार्केट में गिरावट आती है और मार्केट दोबारा से नेकलाइन पर आ जाती है जहां से मार्केट उठी थी |

अब मार्केट में दोबारा बचे हुए Buyers सोचते हैं की मार्केट दोबारा से हायर हाय लगा देगी इसलिए बचे हुए Buyers मार्केट को खरीदते हैं अबकी बार मार्केट में खरीदने वालों की संख्या कम है इस वजह से मार्केट पिछले रेजिस्टेंस को ब्रेक नहीं पाती है हायर हाई नहीं लगती थोड़ा ऊपर जाने के बाद लोअर लो लगा देती है नीचे आ जाती है |

इस प्रकार से मार्केट में सिर और कंधे का पैटर्न बन जाता है जैसे ही यह पैटर्न बनता है तो आपको समझ जाना चाहिए कि अब मार्केट का ट्रेंड बदलने वाला है |

Fake Break Out से कैसे बचे

Head and shoulders Pattern सिर और कंधे का पैटर्न Fake Break Out से बचने के लिए आपको बैंक निफ्टी (Banknifty) और निफ्टी (Nifty50) में ट्रेड करते समय ध्यान देना होगा क्योंकि यहां पर लिक्विडिटी (Liquidity) ज्यादा होती है इस वजह से बैंकनिफ्टी और निफ्टी के अंदर ही इनसाइडर के द्वारा ट्रैप बनाकर छोटे ट्रेडर को फसाया जाता है और उनका स्टॉपलॉस हंटिंग किया जाता है |

फेक ब्रेक आउट से बचने के लिए आप वॉल्यूम का उपयोग कर सकते हैं अगर ब्रेकआउट होते समय वॉल्यूम कम नजर आ रहा है तो आपको ट्रेड करने से बचाना है |

जब भी यहां पर ब्रेकआउट हो रहा हो तो नेकलाइन पर वॉल्यूम की मात्रा अधिक होनी चाहिए इसके लिए आप ट्रेडिंगव्यू चार्ट पर वॉल्यूम इंडिकेटर लगा सकते हैं |

जैसे ही नेकलाइन का ब्रेकआउट आता है तब आपको इंतजार करना है की नेकलाइन के ऊपर कम से कम 5 मिनट की तीन कैंडल सस्टेन करें तब आप वहां पर एंट्री ले सकते हैं |

Head and Shoulders पैटर्न में ट्रेड कब लें

जब तक मार्केट के चार्ट में यह पैटर्न पूरा ना हो जाए तब तक इंतजार करना है और देखते रहना है जैसे ही मार्केट नेक लाइन पर ऊपर नीचे का व्यवहार करें और मार्केट ऊपर ना जा पाए तब हर ट्रेडर और हर निवेशक को यह लगता है कि मार्केट के शेयर की वैल्यू ओवर वैल्यूड हो चुकी है इस वजह से मार्केट तेजी नहीं दिख रहा है |

इसको देखते हुए बहुत सारे ट्रेडर मार्केट में बेचने का आर्डर लगा देते हैं जिस वजह से मार्केट अपने नेकलाइन को ब्रेक कर देती है |

जैसे ही शेयर अपने नेकलाइन कि या सपोर्ट लाइन को तोड़ता है तो हर किसी ट्रेडर को शेयर की कीमत में कमजोरी महसूस होने लगती है अब यहां पर सभी ट्रेडर बिकवाली का आर्डर लगा देते हैं ज्यादा ऑर्डर लगने की वजह से मार्केट में तेजी से गिरावट आती है और एक बेयरिश (लाल कैंडल ) बनती है |

अब यहां पर मार्केट में ट्रेड बदल चुका है जैसे ही अगले कैंडल पिछले बेयरिश (लाल कैंडल ) का Low ब्रेक करेगी तो वहां पर आपको एंट्री लेनी है आपको बहुत अच्छा प्रॉफिट मिल जाएगा |

Head and Shoulders पैटर्न में टार्गेट कितने पॉइंट का लगाए

Head and Shoulders Pattern में बड़े-बड़े ट्रेडर अपना टारगेट इस पैटर्न के सिर और नेकलाइन के बीच के अंतर को मानते हैं जितना पॉइंट का गैप सिर और नेकलाइन के बीच में होगा उतना बड़ा अपना टारगेट लगते हैं |

यहां पर आप मान सकते हो अगर शेयर बाजार में किसी शेयर की कीमत इस पैटर्न में हेड पॉइंट पर₹1000 थी और नेक लाइन पर उसकी कीमत₹700 थी (100-700=300) अब आपको अपना टारगेट 300 पॉइंट का लगाना है नेकलाइन पर शेयर की कीमत ₹700 है तो उसमें से 300 निकालने के बाद शेयर की कीमत ₹400 बच्ची तो आपको ₹400 पर टारगेट लगाना है आप इसे Bufring भी दे सकते हैं थोड़ा सा कम लगा सकते हैं जैसे 430 रुपए का टारगेट लगाकर चल सकते हैं

Head and Shoulders पैटर्न में स्टॉप लॉस कहाँ लगाए

दोस्तों एक ट्रेडर के लिए मार्केट में ट्रेड करना बहुत ही आसान होता है और उसके लिए सबसे जरूरी होता है स्टॉप लॉस क्योंकि ट्रेड में ट्रेडर का साथ सिर्फ स्टॉप लॉस ही देता है और कोई मार्केट में ट्रेडर का साथ नहीं देता है इसलिए कोई भी मार्केट में आर्डर लगाने से पहले अपना स्टॉपलॉस और टारगेट को पहले डिसाइड करना चाहिए |

सिर और कंधे का पैटर्न Head and shoulders Pattern स्टॉप लॉस लगाने के लिए आपको नेकलाइन पर ध्यान देना होगा नेकलाइन को जिस बेयरिश (लाल कैंडल ) में ब्रेकडाउन दिया था आपको उस बेयरिश (लाल कैंडल ) के हाय को Bufring देखकर अपना स्टॉपलॉस लगाना है |

Summary

दोस्तों स्टॉक मार्केट में यह मेरा सबसे फेवरेट पैटर्न है और जब भी मार्केट में यह पैटर्न बनता है तो मैं इसे जरूर ट्रेड करता हूं आपको भी अपने ट्रेडिंग रूटीन में इस पैटर्न को अपनाना चाहिए जिससे आपकोअच्छा फायदा मिल सके |

दोस्तों आज हमने सिर और कंधे का पैटर्न Head and shoulders Pattern इस पैटर्न के बारे में पूरी जानकारीआपको समझाई साथ ही हमने आपको इस पैटर्न में टारगेट और स्टॉप लॉस लगाना सिखाए इसकी साइकोलॉजी बताएं 

अगर दोस्तोंआप को यह जानकारी पसंद आई है तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताना और इस पोस्ट में किसी प्रकार की कोई कमी रह गई है या फिर कोई और पॉइंट जोड़ना जरूरी था तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं हम आपके दिए गए सुझाव को इस पोस्ट में जोड़ने की कोशिश करेंगे धन्यवाद |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Trader Krishan

नमस्कार मैं कृष्ण कुमार इस ब्लॉग का संस्थापक हूं मैं पैसे से Youtuber पर और Blogger हूं मुझे ट्रेडिंग करते हुए 3 साल हो गए हैं अभी तक मैंने मार्केट शेयर बाजार के बारे मे जितना सीखा है उसे मे Tradezonezero.com हिन्दी blog के माध्यम से आप के साथ बाटना चाहता हु। |

Leave a Comment